Follow by Email

Tuesday, 1 May 2012

स्तन-पान संतान, करे जो तेरा बहना-

Blog Weather Report - मौसम का हाल, मो सम की ज़ुबानी

संजय @ मो सम कौन ? at मो सम कौन कुटिल खल ...... ? -

इक कंकड़ रख सड़क पर, एम् वी ठोकर मार |
कितने फुट जाता खिसक, खेलें साथी चार |

खेलें साथी चार, धार की महिमा गाते |
मिलकर सारे यार, अधिकतम पांच बढाते |

रविकर आता बाप, डांट कर उन्हें भगाता |
खेल खेल में सात, फीट वह खुद सरकाता ||

कैंसर रोगसमूह से हिफाज़त करता है स्तन पान .

देह सौष्ठव की तरफ, अधिक दे रही ध्यान ।
अमृत से महरूम है,  वह नन्हीं सी जान । 

वह नन्हीं सी जान, मान ले मेरा कहना ।
स्तन-पान संतान, करे जो तेरा बहना ।

शिशू निरोगी होय, घटे कैंसर के खतरे ।
 बाढ़े  शाश्वत प्रेम, नहीं बीमारी पसरे ।|

6 Tips to say "I Am Sorry"

D!P!X at The Art of Living  

भुक्खड़ को क्या चाहिए, बस बढ़िया पकवान |

सॉरी तो क्या चीज है, ले लो सारी जान ||

तुम आ गये मोहन


लीला कृष्णा की गजब , रानी-गोपी भक्त ।
पहुंचें प्रेम पुकार पर, बिना गँवाए वक्त ।।

आपका खेल

प्रतुल वशिष्ठ at दर्शन-प्राशन
गैला पर जब तक चले, पहिया ऐ मनमीत ।
गाडी फंसने से बचे, मिले अंत में जीत । 


मिले अंत में जीत, प्रीत की कविता गाओ ।
घूंसों से भयभीत, हुवे क्यूँ मीत बताओ ।

करता प्रभु से विनय, होय निर्मल जो मैला ।
गाडी चलती जाय. मिलेगा उनका गैला ।।

वो आँखें अब भी देखतीं हैं मुझे.......


मीठा पानी झील का, देता प्यास बुझाय ।
खारे अश्रू जो पिए,  झलक तनिक दिखलाय ।।

6 comments:

  1. बहुत बढ़िया प्रस्तुति,प्रभावित करती सुंदर टिप्पणी ,.....

    MY RECENT POST.....काव्यान्जलि.....:ऐसे रात गुजारी हमने.....

    ReplyDelete
  2. बहुत ही बढि़या ...

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति......

    ReplyDelete
  4. रोचक रचना..लाल रंग का उपयोग आँखों को चुभता है...

    नीरज

    ReplyDelete
  5. भावपूर्ण टिप्पणियाँ |
    अच्छी प्रस्तुति |
    आशा

    ReplyDelete