Follow by Email

Thursday, 3 May 2012

तीन-पांच पैंतीस, रात छत्तिस हो जाती

"इनविजिलेटर"


पाठ पढ़ाती पत्नियाँ, घरी घरी हर जाम   |
बीबी हो गर शिक्षिका,  घर में ही इक्जाम | 
 
घर में ही इक्जाम, दृष्टि पैनी वो राखे |
गर्दन करदे जाम, जाम रविकर कस चाखे  |

तीन-पांच पैंतीस, रात छत्तिस हो जाती |
पति तेरह ना तीन, शिक्षिका पाठ पढ़ाती ||
 36

Injustice-2


दुष्ट लगा दुष्कर्म में, मिले जहाँ संजोग ।
लात मारता मर्म में, केवल जाने भोग ।

मनमानी कर छुरा भोंकता ।
तमाशबीन सब नहीं टोकता ।

 कोर्ट सुनाकर फांसी, ख़त्म करे ये रोग ।। 

7 comments:

  1. तीन-पांच में शाम, रात छत्तिस हो जाती |
    पति तेरह ना तीन, शिक्षिका पाठ पढ़ाती ||

    बहुत खूब,....रविकर जी,......

    ReplyDelete
  2. ़़़
    मैने बाद में लिखा
    आप पहले यहां ले आये
    वाह रविकर जी उल्लू मैं हूँ
    पर आप तो उल्लू की रात
    की आँख निकल आये ।

    ReplyDelete
  3. बहुत बढ़िया!
    --
    आज चार दिनों बाद नेट पर आना हुआ है। अतः केवल उऊपस्थिति ही दर्ज करा रहा हूँ!
    --
    हम भी उलूक के घर हो आये हैं!

    ReplyDelete
  4. पत्नी शिक्षिका ना हो तब भी लेती रहती है एक्ज़ाम :)

    ReplyDelete
  5. बहुत खूब,उम्दा लेखन.

    ReplyDelete