Follow by Email

Friday, 1 June 2012

लगे गुरु को ठण्ड, अलावी बने सहारा -



क्वचिदन्यतोSपि...


चेले चैले हो रहे, ले मुगदर का रूप |
दोनों हाथों भांजते, पर सम्बन्ध अनूप | 

पर सम्बन्ध अनूप, परसु से भय ना लागे |
त्यागा जब से कूप, गोलियां भर भर दागे |

चेला यह उद्दंड, गुरू को अतिशय प्यारा |
लगे गुरु को ठण्ड, अलावी बने सहारा |




हमको भी पुस्तक मिली, जय जय मेरे गीत |
एक एक प्रस्तुति पढ़ी, जागी प्रीत-प्रतीत |


जागी प्रीत-प्रतीत, मुबारक होवे भैया |
रविकर प्रचलित रीत, भाव की लेत बलैया |


हर्षित मन-अरविन्द, पटल-मानस पर चमको |
बस्तर वाले अनिल, विषय भय भाया हमको ||






“रूप” न ऐसा हमको भाता 

(डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')



सकल जगत जल जल जला,
 बदन-जल जला जाय |

जीव जंतु जंगल जकड, 
जीवन दिया जलाय ||

11 comments:

  1. चेले चैले और मुगदर :)
    चेला यह उद्दंड गुरु को अतिशय प्यारा :)

    हाहाहा ! मज़ा आ गया !

    ReplyDelete
  2. क्या मारा है...!!

    आभार !

    ReplyDelete
  3. बहुत बढ़िया प्रस्तुति!
    घूम-घूमकर देखिए, अपना चर्चा मंच
    लिंक आपका है यहीं, कोई नहीं प्रपंच।।
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  4. बहुत खूब !!

    ReplyDelete
  5. एक से बढ़ कर एक आंकलन ! बधाई

    ReplyDelete
  6. चेला-गुरु सम्बंध का,सुंदर किया बखान
    चेला-चैला शब्द ने , डाली इसमें जान
    डाली इसमें जान,समर्पण क्या ही सुंदर
    चैला भाँजे हाथ ,वही बन जाता मुगदर
    गुरु होता कुम्हार, शिष्य माटी का ढेला
    गुरु पर जान निसार,करेगा हरदम चेला.

    ReplyDelete