Follow by Email

Thursday, 12 July 2012

सूर्पनखा की नाक का, था उनको अफ़सोस


संजीवनी न मिली हनुमान को-रविकर :चर्चा-मंच 939

 
शिवम् मिश्रा
बुरा भला

सुबह सुबह हनुमान जी, रामायण में आय ।
शक्ति दिखाके हैं गए, सम्मुख सीता माय ।
सम्मुख सीता माय, भूख जोरों से लगती ।
बड़ी वाटिका मस्त , पुष्प-पल्लव फल सजती ।
गए रुस्तमे हिंद, मिली मैया की अनुमत ।
आयें लंका जार, बताओ हो न सहमत  ।।
तमाम सेतु प्रासंगिक सावन के बयार बहाते रहे ,ब्लोगिंग धारावाहिक पे चल रहे शब्द बाणों खूब चले ,राम के विरह में सीता से ज्यादा राम सुबके ...
ReplyDelete

सूर्पनखा की नाक का, था उनको अफ़सोस |
लक्ष्मण ने काटी सही, नहीं रख सके होश |
नहीं रख सके होश , क्षम्य नारी की गलती |
नारी का क्या दोष, राक्षसों के संग पलती |
कह रविकर श्री राम, बचे अभियोग जबर से |
बना रहा अनजान, बड़ा आयोग खबर से ||

"अब तो समझ "

तितली उड़ कौआ उड़ा, उल्लू उड़ा बताय |
आज उड़ाते पेड़ भी, धरा सफा हो जाय |
धरा सफा हो जाय, पेड़ पर नंबर ज्यादा |
पक्षी सारे आज, बदलने लगे इरादा |
वैसे उड़ते लोग, उड़ाते बाप कमाई |
बच्चों का यह खेल, बड़ी बेईमानी लाई ||
बहुत उड़ रहा आज कल, है इसमें क्या राज ।
राज हुआ उल्लूक का, सारा मस्त समाज ।। 

"सावन के दोहे" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

अल्मोड़ा से उतर के, देख तराई आय ।
उलटी गंगा न बहे, पी  ले रस मस्ताय ।।

फोटो खिंचवाना एक अदा है , लेकिन फोटो खींचना एक कला है --

फोटो बढ़िया लग रहा, मतलब व्यक्ति खराब ।
गर फोटो घटिया कहें, है तारीफ़ जनाब ।।

आस एक अनपली रह गयी

इस ब्लॉग पर मिल रहे, संस्कार निर्बाध ।
चुल्लू से पीते रहो, संस्कार को साध ।।

बाबा भोलेनाथ का दर्शन

(Arvind Mishra)
जय जय जय अरविन्द की, माँ भारती विराज ।
भक्तों पर करती  कृपा, दे सम्यक आवाज ।।

न्यू मीडिया अपने उत्तरदायित्वों को न भूले : बालेन्दु शर्मा दाधीच


सब के सब हैं पूर्वज, लो श्रद्धा से नाम ।
बन्दर हैं तो क्या हुआ, गुरु उस्तुरा थाम ।
गुरु उस्तुरा थाम, बाल की खाल निकालें ।
हो दूजे का भाव , शब्द में अपने ढाले ।
हुवे असहमत आप, उस्तुरा मार भगाए ।
समझदार उल्लूक, उसे बिलकुल न भाये ।।

रविकर पर थू थू करे, जो खाया इक प्याज

नुक्कड़ -पर ही

 बहुत बहुत आभार, आय नुक्कड़ पर बैठा ।
 ले पी  ले दो पैग, लगे क्यूँ  ऐंठा ऐंठा ??

सुरम्या


प्रोफ़ेसर की टिप्प्णी , गहता सार तुरंत ।
 बड़ी पुस्तिका का करे, चंद मिनट में अंत ।।

वो गूंगी नहीं थी !!!


ऐसे लोगों का करे, प्रभु ही अब कल्याण ।
बच्चे के रोये बिना, नहीं दूध का पान ।
 नहीं दूध का पान, बताओ उसको पूरा ।
पूरा होवे प्यार, कभी न रहे अधूरा ।
छोड़े सही प्रभाव, किन्तु यह सदा  मुहब्बत ।
दूजा दे गर दांव, नहीं  थी उसमें कुव्वत ।।

चाँद का सफ़र

ऋता शेखर मधु
मधुर गुंजन
अच्छी प्रस्तुति है सखे, बड़े अनोखे भाव ।
एक एक पंक्ति पढो, बढ़ता जाए चाव ।।

अंत में एक समाचार-
जंतर मंतर दिल्ली से 

जमी हुई संतोष हैं , जंतर मंतर आय |
अनशन पर बैठे हुवे, है जिन्दा बतलाय |
है जिन्दा बतलाय, बड़े जालिम ससुरारी |
मृत घोषित कर हड़प, रहे संपत्ति हमारी |
राहुल सुनो गुहार,  करो शादी बेटी से |
दूंगी तुम्हें दहेज़, करोड़ चौदह पेटी से ||

 

5 comments: