Follow by Email

Monday, 16 July 2012

आज देवेन्द्र जी पाण्डेय हमारे शहर धनबाद में


बेटी का एडमीशन 
MBA,
 ISM धनबाद 
में हुआ है -
शुभकामनायें
आज का दिन उनके लिए सुरक्षित ।
शाम को चर्चा मंच सजाऊंगा ।।
जय राम जी की ।।
देवेन्द्र पाण्डेय जी 
का ब्लॉग
बेचैन आत्मा 

15 comments:

  1. मेरी तरफ से भी देवेन्द्र पाण्डेय जी और उनके परिवार को हार्दिक शुभकामनाए प्रेषित कीजियेगा !

    ReplyDelete
  2. देवेन्द्र पाण्डेय जी और उनके परिवार को हार्दिक शुभकामनाए...

    ReplyDelete
  3. देवेन्द्र जी को बधाई ... आपके घर मेहमान आए ... आपको भी बधाई ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी
      दरअसल आप सपरिवार होटल में ही ठहरे हैं-
      कुछ ख़ास मौका नहीं मिल रहा है-
      सेवा का |
      पहली बार बेटी बाहर निकली है-
      चिंतित हैं थोडा देवेन्द्र जी -
      सादर

      Delete
    2. एक पिता होने के नाते चिंता करना स्वाभाविक है,,,,,,,,

      Delete
  4. वाह ... बेहतरीन

    ReplyDelete
  5. बेटी का एडमीशन हुआ, पहुच गए धनबाद,
    बेचैनआत्मा"को शांती मिली.मेरा भी धन्यबाद,,,,,

    आभार,,,,,,,

    ReplyDelete
  6. देवेन्द्र पाण्डेय जी और उनके परिवार को हार्दिक शुभकामनाए...

    अच्छा तो आप यहाँ हैं ...

    अच्छा हुआ पता चल गया अब एफ आई आर नहीं करनी पडे़गी !!

    ReplyDelete
  7. देवेन्‍द्र पांडेय जी और उनकी बिटिया रानी को शुभकामनाएं ..

    एक नजर समग्र गत्‍यात्‍मक ज्‍योतिष पर भी डालें

    ReplyDelete
  8. देवेन्द्र जी के परिवार को शुभकामनायें ,बिटिया को सफलता पर विशेष रूप से !

    ReplyDelete
  9. ब्लॉग का ब्लोगिंग का ये आयाम कितना ,खूब -सूरत है ,अपने परिवारियों को जानने लगें हैं ,हम लोग .

    हर तरफ अपनों की सूरत है सीरत है .बधाई देवेन्द्र जी को ,रविकर जी को जिन्होनें यह दिलखुश खबर सुनाई .

    ReplyDelete
  10. शुभकामनाएँ पांडेयजी को !

    ReplyDelete
  11. ये फोटो दोबारा देखी है, देवेन्द्र जी के घने काले बाल देखकर ईर्ष्या होती है :)

    पाण्डेय परिवार और आप सब का समय सुखद बीते यही शुभकामनायें हैं !

    ReplyDelete
  12. सभी की शुभकामनाओं के लिए आभार। आग्रह न मानकर होटल में रूकने के लिए अन्यथा ना लें। अधिक से अधिक समय बेटी के साथ ही बिताना चाहता था। अभी तो आपको कम से कम पूरे दो वर्ष परेशान करना है। वैसे भी आपसे मिलने के बाद चिंता काफी हद तक कम हो चुकी है।..आभार।

    ReplyDelete