Follow by Email

Saturday, 14 July 2012

हरे रंग का है अगर, भागे भगवा मित्र-

"बहुत कम होते हैं "


चश्मे का पड़ता फरक, दरक जाएगा चित्र ।
हरे रंग का है अगर, भागे भगवा मित्र ।

भागे भगवा मित्र, छीन कर कागज़-कूँची  ।
हालत बड़ी विचित्र, सोंच दोनों की ऊंची ।

किन्तु संकुचित  दृष्टि, दिखाए खूब करिश्मा ।
कितना भी बदरंग, बदल पाते ना चश्मा ।। 

मौन और मौन !

रेखा श्रीवास्तव at hindigen
मौन रहे निर्दोष गर, दोष सिद्ध कहलाय ।
अपराधी खुब जोर से, झूठे शोर मचाय ।
झूठे शोर मचाय,  सुने जो हल्ला गुल्ला ।
मौन मान संकेत, फैसला  देता  मुल्ला ।
पर काजी की पहल, शर्तिया करे फैसला ।
  मौन तोड़ ऐ सत्य, तोड़ मत कभी हौसला ।।

दो ब्लॉगर, दो कवि और एक काव्य गोष्ठी।

देवेन्द्र पाण्डेय
बेचैन आत्मा  

आदमी की आँख में बनता जहर ।
पान पर भी  टूटता जुल्मी कहर-

अंदाज बदला आज चूना यूँ लगा -
पानी पिला के कैंचियाँ दें पर क़तर ।

हास्य-रस जैसा बना रस था मगर 
स्वाद सड़ते सोरबे सा हर शहर ।

प्रेम रस में व्यस्तता का लवण ज्यादा 
बस पसीने से हुवे सब तर-बतर ।। 

अब इसी में खोजना है जिंदगी-
चारो दिशाओं ने दिया उलझा मगर ।।




8 comments:

  1. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (15-07-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  2. Replies
    1. मुबारक हो झंडा फहराने के लिए !

      Delete
  3. बहुत बढ़िया...
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  4. उल्लूक टाइम्स,,,,

    बना रहे है पोस्टर, बिना भरे ही रंग
    बिन चश्मे के देखते,लगते है बदरंग,,,,,,

    ReplyDelete
  5. मत कर मत कर किसी दिन धर लिया जायेगा
    आदमी नहीं उल्लू के साथ एक पकड़ लिया जायेगा ।

    ReplyDelete
  6. Replies
    1. जी |
      बस आदत सी पद गई है-
      कोई पोस्ट पढ़ी बस झट से कर दी तुक बंदी-
      आपको पसंद आई-
      आभार-
      अच्छी रचनाओं के लिए कृपया-
      http://dcgpthravikar.blogspot.in/

      Delete