Follow by Email

Sunday, 15 July 2012

तन की खुजली यूँ बढ़ी, रिंग-कटर ली खोज

बहुत कठिन है डगर पनघट की .....

संजय @ मो सम कौन ?
मो सम कौन कुटिल खल ...... ?

 कर्तव्यों की इतिश्री, बच्चे बनते बोझ ।
तन की खुजली यूँ बढ़ी, रिंग-कटर ली खोज ।
रिंग-कटर ली खोज, पुरानी हुई अंगूठी ।
दिखा रास्ता सोझ, गजब अपनों से रूठी ।
किन्तु रास्ता ख़त्म, सामने लम्बी खाईं ।
विवाहेत्तर कोढ़, समझ में किसके आई ??
डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’

हर शाखा पर उल्लू बैठे, कैसे झूला डाल सकेंगे ।
हरियाली सावन की लेकिन , उल्लू नहीं हकाल सकेंगे ।
हुआ असर यह मँहगाई का, गाई गई महज मँहगाई -
पानी पर ही तले पकौड़े, पैबन्दों से  लाज ढकेंगे ।।

उल्लूक टाइम -सुशील
My Photo
पल्ला खुलते घरों के, पल्ला नारि हटाय ।
ताक -झाँक सयनन  कहें,  बिन बोले बतलाय ।
बिन बोले बतलाय, खबर मुनिया है लाई ।
खबर सही अखबार, छपी उम्दा कविताई ।
हल्ला लेकिन होय, मास्टरनी हड़काती ।
किये कौन सा काण्ड, भीड़ काहे घर आती ??
,

यह तो ऐसा ही सखे, मगर मच्छ से बैर |
मानसून में बच गई, मछली की कुल खैर |
मछली की कुल खैर, सैर पर वह भागेगी |
नदी नदी हो पर, समंदर तक लांघेगी |
ऐसा अंतर्जाल, मगर भी फंस जायेगा |

राजनीति जंजाल, नहीं वह खा पायेगा ||

ललित शर्मा
ललितडॉटकॉम

कर्मकांड सोद्देश्य है, गाँव-राँव खुशहाल ।
बेंगा के नेतृत्व में, कटते सकल बवाल ।
 कटते सकल बवाल, चेतना भी आती है ।
एक लक्ष्य कल्याण, धरा तब मुस्काती है ।
काँवरिया जल ढार, पूज भोले भंडारी ।
भरे सकल भण्डार, मने ऐसे इतवारी  ।।

ZEALatZEAL -

कोदों-सावाँ  बेंच के, डिग्री लिया बटोर |
लाख रुपैया टेट में, सर्विस रहा अगोर |

सर्विस रहा अगोर, खेत के नहीं काम का |
ढूंढ़ रहा है रकम, काम भी मिला नाम का |

पिच-पिच खैनी खाय, वसूले दिया रुपैया |
ढूंढे दिया जलाय, नौकरी मेधा भैया ||

राम राम भाई!
वीरू भाई
मेरा फोटो

उनके चेहरे की रंगत, आकर्षण यह काया का |
कॉफ़ी-बेरी से आया या, तरकारी रविकर की खाई ||
फल जैसा पहले धोई थी, छिलके के संग ही काट दिया-
कांटे से टुकड़े फंसा फंसा , तब तो यह रौनक पाई || 


बस यूँ ही….

Maheshwari kaneri 

 चाँद आज धरती पर उतरा, रहा चांदनी कबसे खोज ।
तारे बंधते इक गठरी में, उठा रहा अनजाना बोझ ।
सूरज से  रज कण तक जल कर,  आर्तनाद जल-धर से करते 
सवाशेर सावन बन जाता, कर देता सूरज को सोझ ।।

शान्ति की खोज


 सदाचारियों की अगर,हो विवाद से भेंट |
करे बेवजह बहस या, खुद को रखे समेट  |
खुद को रखे समेट, प्रेम-प्रभु में रम जाए |
सहे सुने सौ बात, एक ना किन्तु सुनाये |
रविकर पथ यह नीक, किन्तु सामाजिक जीवन |
ईर्ष्या द्वेष प्रपंच, घेरता है सज्जन मन ||



 मोहब्बतनामा -आमिर दुबई
Profile picture

कुच्छो न बदला सखे, ए बी पी की न्यूज ।
पहले जो स्टार था,  आज अभी महफूज ।
आज अभी महफूज, भला आमिर न सल्लू ।
इक जाता दो पाय,  दूसरा बनता उल्लू ।
औसत का परनाम, आज सलमान कुंवारा ।
फैन बड़े हैरान, कैट का कैसा चारा ??

7 comments:

  1. लिखते-लिखते स्कोर बढ़ गया....बढ़िया लिखे हो !

    ReplyDelete
  2. उल्लू बैठेंगे कहाँ, कटे बाग के पेड़।
    लगे हुए है बाग में, कचरे के अब ढेर।।

    ReplyDelete
  3. बहुत ही बढिया।

    ReplyDelete
  4. बार बार दिखाने से उल्लू
    कबूतर जो क्या हो जायेगा
    ज्यादा धोना कपड़ा घिसेगा
    और साबुन भी गल जायेगा ।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार (17-07-2012) को चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  6. बहुत बहुत आभार, रविकर जी

    ReplyDelete