Follow by Email

Tuesday, 8 January 2013

लड़-का-नूनी काट, कहीं पावे नहिं भागे-




अपराध विज्ञान : हड्डियां भी बतला सकतीं है अपराधी की संभावित उम्र नस्ल और लिंग


Virendra Kumar Sharma

आगे दारुण कष्ट दे, फिर काँपे संसार |
नाबालिग को छोड़ते, जिसका दोष अपार |
जिसका दोष अपार, विकट खामी कानूनी |
भीषण अत्याचार, करेगा दुष्ट-जुनूनी |
लड़-का-नूनी काट, कहीं पावे नहिं भागे |
श्रद्धांजली विराट, तख़्त फांसी पर आगे ||

दो आँखें

ऋता शेखर मधु  

आँखों में बेचैनियाँ, काँप दर्द से जाय |
सांत्वना से आपकी, नहीं रूह विलखाय |
नहीं रूह विलखाय, खाय ली देह हमारी |
लाखों लेख लिखाय, बचे पर अत्याचारी |
है भारत धिक्कार, रेप हों हर दिन लाखों |
मरें बेटियाँ रोज, देखते अपनी आँखों ||



आज दो शेर हाजिर हैं.......

पी.सी.गोदियाल "परचेत" 

 अंधड़ ! 

 तली पकौड़ी चाय हो, हो चूल्हे में आग |
प्रेयसी का भी साथ हो, जाय ठण्ड फिर भाग |
जाय ठण्ड फिर भाग, लहर लड़-शीत लहर से |
गुल लागे गुलगुला, ऊर्जा रात्रि पहर से |
रविकर पड़ा अकेल, ठण्ड से आये मितली |
दिन में लेता खेल, पकड़ कर गुल की तितली ||

गुल=कोयले का अंगारा

 प्यार के बोल

Madan Mohan Saxena 
प्यारा यह अंदाज है, जहाँ चतुर्दिक प्यार |
चैन अमन हो जहाँ में, है बढ़िया हथियार |
है बढ़िया हथियार, अहिंसा से जय होती |
बापू बोले सत्य, दुश्मनी अहम् बिलोती |
प्यार प्यार बस प्यार, बढ़ाये भाई चारा |
मिल बैठें हम चार, लगे माता को प्यारा ||

"चाय और आग" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण)  

आगे करके हाथ दो, सेंक रहे हम आग ।
शीत-लहर कटु गलन अति, जमते नदी तड़ाग ।
जमते नदी तड़ाग, गर्म कर चाय सुड़कते ।
रहे आग को खोद, आग फिर भी नहिं भड़के ।
दिल्ली दुर्जन आग, देह में ऐसी लागे ।
कर निकृष्टतम पाप, जलें जिन्दा वे आगे ।।


प्रेम या भ्रम 

 यादें - अमरेन्द्र शुक्ल -अमर  

प्रेम-पुजारी आपका, हाथ हमारा थाम ।
छोड़-छाड़ कर क्यूँ यहाँ, करे रोज बदनाम
करे रोज बदनाम,  काम का 'पहला' बन्दा ।
क़तर-व्यौंत कतराय, क़तर मत पर आइन्दा 
जारी कर विज्ञप्ति,  डाल नजरें फिर प्यारी 
रविकर पास प्रमाण, श्रेष्ठ यह प्रेम पुजारी 




4 comments:

  1. सभी कुण्डलियाँ सार्थक और सटीक हैं।
    आभार आपका!

    ReplyDelete
  2. हर लिंक को सजाती आपकी कुंडलियाँ बहुत अच्छी है !!

    ReplyDelete
  3. वाह ! एक से बढ़कर एक टिप्पणियां !

    ReplyDelete
  4. सार्थक टिप्पणियों से सजे लिंक्स...आभार !!

    ReplyDelete