Follow by Email

Tuesday, 27 December 2016

लड्डू मोती चूर के-

गुणकारी है स्वास्थ सुधारे।
नीम करेला मित्र हमारे।
लेकिन जिभ्या रही मचलती।
दोनों की कड़ुवाहट खलती।
आंखे देखें घूर के।

लड्डू मोतीचूर के।।१।।


दिखा झूठ का स्वाद अनोखा।
खुद बोलो तो लगता चोखा।
किन्तु दूसरा जब भी बोले।
कड़ुवाहट काया में घोले।
तेवर दिखें हुजूर के।
लड्डू मोती चूर के।।२।।

बड़े काम का है रत्नाकर।
धन्य धन्य हम मोती पाकर।
मछुवा मछली पकड़े जाकर।
लौटे केवल पैर भिगाकर।
बन्दे कई सुदूर के।
लड्डू मोतीचूर के।।३।।

दुखी नहीं हम अपने दुख से।
रहें दुखी गैरों के सुख से।
उसकी आमदनी की चर्चा।
ज्यादा लागे अपना खर्चा ।
ढोल सुहावन दूर के।
लड्डू मोती चूर के।।४।।

2 comments: