Follow by Email

Monday, 14 November 2016

त्याग लोभ धर धैर्य, मान रविकर रख लेना


देना है तो दान दो, लेना है तो ज्ञान।
अगर निगलना ही पड़े, निगलो निज अपमान।
निगलो निज अपमान, चलो गम खाना सीखो।
पीना सीखो क्रोध, नहीं बेमतलब चीखो।
त्याग लोभ धर धैर्य, मान रविकर रख लेना।
कर लेना यश प्राप्त, फेंक मद ईर्ष्या देना ।।

Monday, 7 November 2016

रविकर के दोहे



दिया दूसरों ने जनम, नाम, काम, सद्ज्ञान।
ले जायें शमशान भी, तू क्यों करे गुमान ।।

दनदनाय दौड़े मदन, चढ़े बदन पर जाय।

खजुराहो को देखकर, काशी भी पगलाय।।



कैसे कोई अन्न जल, कर सकता बरबाद।

संसाधन साझे सकल, रखना रविकर याद।।



शशि में सुंदरता दिखे, दिखे सूर्य में शक्ति।

सुंदरतम कृति ईश की, दर्पण में जो व्यक्ति।।



ठोस कदम ऐसा उठा, पुल में पड़ी दरार।

फूंक फूंक रविकर कदम, रखे राज्य सरकार।।



ढेर ज्ञान संग्रह किया, लेकिन रविकर व्यर्थ।

करे वरण कुछ आचरण, होगा तभी समर्थ।।



नहीं मिलें इक वक्त पर, कभी रुदन-मुस्कान |

जिस क्षण ये दोनों मिलें, वह क्षण प्रभु वरदान ||